2

गाँव का इतिहास

इस गाँव के पूर्वज पीपलोद से आए थे| पहले बंजारो ने यहा कुआँ बनवाया था,कुआँ होने की वजह से गाँव यहा बस गया|कुएँ का नाम दुलाव रखा गया| पहले कच्चे मकान व झोपड़ी हुआ करती थी| करीब 70 साल पहले पहला पक्का मकान श्री चन्दगी राम पुत्र श्री राम जस ने बनाया थे जो आज भी ज्यों का त्यों है|